Friday, November 29, 2013

Tigmanshu Dhulia Can Be Recognized By Commercial Masks Too - Parde Ke Peeche - Jaiprakash Chouksey - 29th November 2013

तिग्मांशु को व्यावसायिक मुखौटों के साथ भी पहचाना जा सकता है 

परदे के पीछे - जयप्रकाश चौकसे

 
तिग्मांशु धूलिया की 'पान सिंह तोमर' को भूलना संभव नहीं परंतु 'बुलेट राजा' में वे चंबल से दूर भीतरी उत्तरप्रदेश पहुंच गए हैं, जहां का मतदाता भारत के भाग्यविधाता को चुनने में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। चंबल जैसी ताकतें उत्तरप्रदेश में हर कालखंड में सक्रिय रही हैं। 'बुलेट राजा' का ऊपरी स्वरूप एक सामान्य एक्शन व्यावसायिक फिल्म का ही है। इस तरह की फिल्मों के लिए डायरेक्टर खोजने में मेहनत करनी पड़ती है। ऐसे भी किसी भी सितारे की फिल्म में डायरेक्टर ढूंढ़े नहीं मिलता, परंतु यह माध्यम ही कुछ ऐसा है कि सितारा न निगलते बनता है, न उगलते बनता है। 
 
स्रोत : Tigmanshu Dhulia Can Be Recognized By Commercial Masks Too - Parde Ke Peeche By Jaiprakash Chouksey - Dainik Bhaskar 29th November 2013
 
बहरहाल तिग्मांशु धूलिया को उसके व्यावसायिक मुखौटे पहनने के बाद भी पहचाना जा सकता है। इस फिल्म में कुछ दृश्य और पात्र ऐसे हैं जो आपको वर्तमान की सड़ांध से परिचित कराते हैं। फिल्म में एक अत्यंत धनाढ्य व्यक्ति है। वह सभी राजनीतिक दलों को अकूत धन देता है। वह अपने विश्वासप्राप्त सचिव के पांच सितारा होटल के उस कक्ष में जा रहा है जो किसी अन्य के नाम से लिया गया है। भारत के धनाढ्य कितने 'सफाई' प्रेमी हैं कि उन्हें कक्ष में इंतजार कर रही कॉलगर्ल की मेडिकल रिपोर्ट देते हुए कहता है कि लड़की 'क्लीन' हैं अर्थात उसे सेक्स संबंधित कोई बीमारी नही हैं। धनाढ्य लोग अपनी 'बेशकीमती जान' के प्रति कितने सजग हैं कि अपनी अय्याशी के स्थान पर भी साफ सफाई का उन्हें ध्यान है। भारत में मनुष्य की कीमत के मानदंड अलग हैं। आप हवाई दुर्घटना में मरें तो रेल दुर्घटना में मरने से अधिक धन मिलता है। कार दुर्घटना में मरने पर इंश्योरेंस की मोटी रकम मिलती है। 
 
आजकल धर्म प्रधान राजनीति का दौर है तो सांप्रदायिक दंगे में मरने पर मोटी रकम मिलती है। कई दिन तक अखबारों में फोटो छपते रहते हैं। इसी तरह राजनीति में भी युवा लड़कियों को बहुत अवसर प्राप्त है। इस देश के विरोधाभास देखिए कि महिलाओं के लिए संसद में तीस प्रतिशत आरक्षण का बिल संभवत: पैंतीस वर्ष से लटका हुआ है, परंतु राजनीति में शक्तिशाली साहब लोगों की अंतरंग मित्र होने के अनेक लाभ हैं। जब बात उजागर हो जाए तो कन्या को सपरिवार पूरा जीवन विदेश में रहने का अवसर मिलता है। इसे कहते हैं 'चित भी मेरी, पट भी मेरी'। दूसरा दृश्य यह है कि फिल्म की बंगाली नायिका फिल्म सितारा बनने घर से भागी थी और अब अपने गैरबंगाली प्रेमी के साथ घर आई है। उसके माता-पिता घर से भाग कर फिल्म में अभिनय करने को उतना बुरा नहीं मानते जितने गैरबंगाली मर्द से प्रेम को। नायिका अपने कम्युनिस्ट चाचा से मदद की प्रार्थना करती है तो वे भी गैरबंगाली एवं विजातीय दूल्हे के पक्ष में नही हैं। वे स्पष्ट कहते हैं कि कम्युनिज्म का कोई अर्थ नहीं है, वर सजातीय होना चाहिए। 
 
यह भारत की अपनी विशेषता है कि नास्तिक होना कम्युनिज्म की आवश्यक शर्त है परंतु भारत में कम्युनिस्ट भी जात-पात पर यकीन करते हैं। सच तो यह है कि इस दल के भी अपने ब्राह्मण हैं और उन्होंने ही कम्युनिज्म को पूरे देश में नहीं फैलने दिया अन्यथा आज दोनों प्रमुख दलों से नाराज मतदाता कम्युनिस्ट को वोट करता। इस फिल्म में एक छोटी चरित्र भूमिका युवा प्रतिभाशाली उभरते हुए चित्रकार की है और नायक उसे भरपूर पैसा देता है कि अपनी कला साधे और उद्योगपति तथा राजनीतिक माफिया से दूर रहे। यही कलाकार कठिन समय में नायक की मदद करता है परंतु भ्रष्ट होने के पहले ही अवसर पर धन लेकर नायक के साथ विश्वासघात करता है। तिग्मांशु धूलिया भारत के सांस्कृतिक शून्य को इस तरह अभिव्यक्त कर रहे हैं जैसे हमारे देश में कलाकार, लेखक, पत्रकार सब भ्रष्ट होने के अवसर का ही इंतजार करते हैं। फिल्म में जिमी शेरगिल और युवा विद्युत ने बहुत अच्छा काम किया है। फिल्म में एक चरित्र भूमिका सबसे अधिक गहरी चोट करती है। जेल में एक बूढ़ा अपराधी है, जिसके पास तीन मोबाइल हैं और महंगा कम्प्यूटर है। यह रहस्यमय व्यक्ति उद्योगपति, माफिया, नेता, धार्मिक ठेकेदार, पुलिस सबका विश्वास प्राप्त है। संकेत मिलने पर वह ही धन देता है। वह जेल में भी राजा है और बाहरी दनिया में किसे सिंहासन मिले यह तय करता है। 
 
ये पात्र प्रतीक है दलाल का जिसके बिना न सत्ता का काम चलता है, न उद्योगपति का और न ही अपराध जगत का। इस चरित्र को गढऩा धूलिया की जीनियसनेस को बताता है। अब भारत एक विराट बीहड़ है। डाकुओं ने मुखौटे लगा लिए हैं। इस तरह धूलिया ने पान सिंह तोमर को उसके तमाम मुखौटों के साथ प्रस्तुत करने का प्रयास किया। 
 

एक्स्ट्रा शॉट  …

पान सिंह तोमर को नेशनल फिल्म अवॉर्ड और फिल्मफेयर अवॉर्ड मिला था।  

 

 

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
स्रोत : Tigmanshu Dhulia Can Be Recognized By Commercial Masks Too - Parde Ke Peeche By Jaiprakash Chouksey - Dainik Bhaskar 29th November 2013